Home फेलोशिपपीएमआरएफ प्राइम मिनिस्टर्स रिसर्च फेलोशिप (पीएमआरएफ) – आवेदन और चयन की प्रक्रिया
Prime Minister’s Research Fellowship (PMRF)

प्राइम मिनिस्टर्स रिसर्च फेलोशिप (पीएमआरएफ) – आवेदन और चयन की प्रक्रिया

by Shruti Pandey

Table of Contents

पीएमआरएफ या प्राइम मिनिस्टर्स रिसर्च फेलोशिप योजना का उद्देश्य इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ साइंस (आईआईएससी), इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ साइंस एजुकेशन एंडरिसर्च (आईआईएसईआरएस) और इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी (आईआईटीएस) में अत्याधुनिक विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में राष्ट्रीय महत्त्व के विषयों पर डोक्टोरल प्रोग्राम में शोध करने के लिए देश की प्रतिभाओं को प्रोत्साहित करना है। यदि आप विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में पीएचडी करने के इच्छुक हैं, तो पीएमआरएफ आपको भारत के किसी प्रतिष्ठित संस्थान में अध्ययन करने का सुनहरा अवसर प्रदान करता है। यह फेलोशिप भारत सरकार के मानव संसधान विकास मंत्रालय (एमएचआरडी) द्वारा दिया जाता है।Scholarship Registration, Get Scholarship Updateपीएमआरएफ के लिए कौन योग्य है? कोई विद्यार्थी पीएमआरएफ के लिए कैसे आवेदन कर सकता है? इसके लिए चयन की प्रक्रिया क्या हैं? इस योजना के अंतर्गत विधार्थियों को किस प्रकार की वित्तीय सहायता दी जाती है? इस आलेख में इन सभी प्रश्नों का विस्तार से उत्तर प्राप्त करें। इस आलेख में पीएमआरएफ से संबंधित सभी महत्वपूर्ण और प्रासंगिक सूचनाओं जैसे इसके लिए अहर्ता, आवेदन की प्रक्रिया, चयन की प्रक्रिया, अब्स्ट्रैक्ट सबमिशन और अन्य जानकारियों को शामिल किया गया है।

पीएमआरएफ – महत्वपूर्ण तिथियाँ

वर्ष 2020 में इसके लिए कोई नवीनतम सूचना उपलब्ध नहीं है।

पीएमआरएफ के लिए आवेदन की शुरूआत प्रत्येक वर्ष में अप्रैल-मई के महीने में होती है। वर्ष 2019 के लिए, आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि 07 अप्रैल 2019 के रात्रि 11.30 बजे तक थी। एमएचआरडी द्वारा फेलोशिप का वितरण मई 2019 में किया गया था।

नीचे दी गई तालिका में फेलोशिप के लिए महत्वपूर्ण तिथियों का उल्लेख किया गया है।

पीएमआरएफ के लिए महत्वपूर्ण तिथियाँ

तिथियाँ विवरण
मार्च महीने में आवेदन की खिड़की खुलती है
07 अप्रैल 2019 आवेदन करने की अंतिम समय-सीमा
मई 2019 फेलोशिप का वितरण

पीएमआरएफ के लिए इंटरव्यू कार्यक्रम

पीएमआरएफ मई 2019 के लिए इंटरव्यू का कार्यक्रम

इंटरव्यू का स्थान इंटरव्यू की तारीख प्रमुख विषय
आईआईटी मद्रास 20 – 21 मई 2019 एयरोस्पेस इंजीनियरिंग
आईआईटी खड़गपुर 25 – 26 जून2019 एग्रीकल्चर एंड फ़ूड इंजीनियरिंग
आईआईटी खड़गपुर 25 जून 2019 आर्किटेक्चर एंड रीजनल प्लानिंग
आईआईटी बॉम्बे 3 – 4 जून 2019 बायोमेडिकल इंजीनियरिंग
आईआईटी बॉम्बे 3 – 4 जून 2019 बायोलॉजिकल साइंस
आईआईटी गांधीनगर 06 – 07 जून 2019 केमिकल इंजीनियरिंग
आईआईटी बॉम्बे 2 – 4 जून 2019 केमिस्ट्री
आईआईटी रूड़की 12 – 13 जून 2019 सिविल इंजीनियरिंग
आईआईटी दिल्ली 10 – 11 जून 2019 कंप्यूटर साइंस
आईआईटी कानपुर 17 – 19 जून 2019(सांकेतिक) इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग
आईआईटी मद्रास 23 मई2019 इंजीनियरिंग डिजाईन
आईआईएससी बंगलौर 14 – 17 मई2019 साइंस और इंजीनियरिंग में इंटरडिसिप्लिन प्रोग्राम
आईआईटी हैदराबाद 30 – 31 मई2019 मटेरियल साइंस एंड मेटलर्जिकल इंजीनियरिंग
आईआईटी खड़गपुर 25 – 26 जून 2019 मैथमेटिक्स
आईआईटी मद्रास 21 – 22 मई2019 मैकेनिकल इंजीनियरिंग
आईआईटी (आईएसएम) धनबाद 21 – 23 जून 2019 (सांकेतिक) माइनिंग, मिनरल, कोल और एनर्जी सेक्टर
आईआईटी मद्रास 20 मई2019 ओसन इंजीनियरिंग और नवल आर्किटेक्चर
आईआईटी गुहाटी 29 जून – 01 2019 फिजिक्स
आईआईटी दिल्ली 11 जून 2019 टेक्सटाइल टेक्नोलॉजी

पीएमआरएफ – अहर्ता के मुख्य मानदंड

पीएमआरएफ के लिए आवेदक को योग्यता के निम्नलिखित मानदंडों को पूरा करना चाहिए।

  • उन्हें अवश्य ही आईआईएससी / आईआईटीएस / एनआईटीएस / आईआईएसईआरएस / आईआईईएसटी से साइंस और टेक्नोलॉजी स्ट्रीम में 4 – (या 5) वर्षीय अंडरग्रेजुएट / 5-वर्षीय इंटीग्रेटेड एम.टेक / 5-वर्षीय इंटीग्रेटेड एमएससी / 2 -वर्षीय एमएससी /5 – वर्षीय अंडरग्रेजुएट – पोस्टग्रेजुएट ड्यूल डिग्री प्रोग्राम में अध्ययनरत्त या अध्ययन पूरा किया होना चाहिए।
  • उन्हें अवश्य ही (उपरोक्त वर्णित संस्थाओं के अलावे) भारत के किसी अन्य संस्था / विश्वविद्यालय से साइंस और टेक्नोलॉजी स्ट्रीम में 4 – (या 5) वर्षीय अंडरग्रेजुएट / 5-वर्षीय इंटीग्रेटेड एम.टेक / 5 – वर्षीय इंटीग्रेटेड एमएससी / 2 – वर्षीय एमएससी /5 – वर्षीय अंडरग्रेजुएट – पोस्टग्रेजुएट ड्यूल डिग्री प्रोग्राम में अध्ययनरत्त या अध्ययन पूरा किया होना चाहिए। ऐसे उम्मीदवारों को सीजीपीए / सीपीआई में कम से कम 8.0 (10 अंकों के स्केल पर) या समतुल्य अंक प्राप्त करना चाहिए।
  • इच्छुक विद्यार्थियों को अवश्य ही गेट (जीएटीई) की परीक्षा उतीर्ण होनी चाहिए और उन्हें किसी आईआईएससी / आईआईटीएस / आईआईएसईआरएस से एम.टेक / एमएस बाई रिसर्च में न्यूनतम चार कोर्सों में पहले सेमेस्टर की समाप्तिपर सीजीपीए / सीपीआई में कम से कम 8.0 (10 अंकों के स्केल पर) या समतुल्य अंक के साथ उतीर्ण या अध्ययनरत्त होना चाहिए।
  • आवेदन करने की तिथि से पहले के तीन वर्षों के दौरान आवेदक को अवश्य ही उपरोक्त वर्णित सभी शैक्षणिक अहर्ताओं को अवश्य ही पूरा किया होना चाहिए।

यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री छात्रवृत्ति योजना – पुरस्कार विवरण, पात्रता की शर्तों, आवेदन प्रक्रिया के बारे में सभी जानें।

पीएमआरएफ – स्कॉलरशिप और होस्ट इंस्टिट्यूशन

योग्यता के मानदंडों को पूरा करने वाले उम्मीदवारों में से अंतिम रूप से योग्य अभ्यर्थियों का चयन एक विशेष चयन प्रक्रिया के माध्यम से किया जाता है। चयनित विद्यार्थियों को किसी भी आईआईएससी / आईआईटीएस / आईआईएसईआरएस में पीएचडी प्रोग्राम में नामांकन का अवसर दिया जाता है। इसके अतिरिक्त, पीएमआरएफ चयनित विद्यार्थियों को पर्याप्त आर्थिक सहायता भी उपलब्ध कराती है, जिसमें पहले दो वर्षों के दौरान INR 70,000 प्रति माह फेलोशिप, 3रें वर्ष के दौरान INR 75,000 रूपये प्रति माह और 4वें तथा 5वें वर्ष के दौरान 80,000 रूपये का फेलोशिप दिया जाता है। प्राइम मिनिस्टर्स रिसर्च फेलोशिप धारकों के लिए कठिन जाँच परीक्षा आयोजित की जाती है और अगले वर्ष में फेलोशिप का जारी रहना सफल आकलन पर निर्भर करता है।

पीएमआरएफ के लिए चयनित विद्यार्थियों को निम्नलिखित तरीके से फेलोशिप प्राप्त होता है।

वर्ष के अनुसार फेलोशिप के वितरण का ब्यौरा

वर्ष स्कॉलरशिप की राशि (INR)
1 ला वर्ष 70,000
2 रा वर्ष 70,000
3 रा वर्ष 75,000
4 वां वर्ष 80,000
5 वां वर्ष 80,000

इसके अलावे चयनित फेलो को INR 2 लाख रूपये प्रति वर्ष की दर से (कुल INR 10 लाख रूपये की राशि) शोध अनुदान प्रदान किया जाता है। इंटीग्रेटेड कोर्स के विद्यार्थियों के लिए फेलोशिप की अवधि चार वर्षों की होती है, जबकि बी.टेक के विद्यार्थियों के लिए फेलोशिप की अवधि पांच वर्षों की होती है। पीएमआरएफ के लिए इंडस्ट्री की भागीदारी सीएसआर फंडिंग के माध्यम से खोजी जाती है ताकि इंडस्ट्री को अधिकतम संख्या में फेलो को प्रायोजित करने का अवसर दिया जा सके। प्रोग्राम के बारे में कुछ महत्वपूर्ण तथ्य इस प्रकार हैं : –

पीएमआरएफ के अधीन 19 विषयों में नामांकन किया जाता है:

  • एयरोस्पेस इंजीनियरिंग
  • एग्रीकल्चर एंड फ़ूड इंजीनियरिंग
  • आर्किटेक्चर एंड रीजनल प्लानिंग
  • बायोमेडिकल इंजीनियरिंग
  • बायोलॉजिकल साइंस
  • केमिकल इंजीनियरिंग
  • केमिस्ट्री
  • सिविल इंजीनियरिंग
  • कंप्यूटर साइंस
  • इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग
  • इंजीनियरिंग डिजाईन
  • साइंस और इंजीनियरिंग में इंटरडिसिप्लिन प्रोग्राम
  • मटेरियल साइंस एंड मेटलर्जिकल इंजीनियरिंग
  • मैथमेटिक्स
  • मैकेनिकल इंजीनियरिंग
  • माइनिंग, मिनरल, कोल और एनर्जी सेक्टर
  • ओसन इंजीनियरिंग और नवल आर्किटेक्चर
  • फिजिक्स
  • टेक्सटाइल टेक्नोलॉजी

पीएमआरएफ – होस्ट संस्थाओं की सूची

निम्नलिखित होस्ट इंस्टिट्यूशन पीएचडी कार्यक्रमों के लिए उम्मीदवारों की मेजबानी करेंगीं:

  • आईआईटी बंगलौर
  • आईआईटी तिरूपति
  • आईआईटी पालक्काड
  • आईआईटी जम्मू
  • आईआईटी रोपड़
  • आईआईटी रूड़की
  • आईआईटी पटना
  • आईआईटी मंडी
  • आईआईटी कानपुर
  • आईआईटी जोधपुर
  • आईआईटी इंदौर
  • आईआईटी हैदराबाद

 पीएमआरएफ  – आवेदन की प्रक्रिया

तकनीक के आगमन के साथ, प्रत्येक कार्य ऑनलाइन किया जाने लगा है और इसलिए पीएमआरएफ के लिए आवेदन की प्रक्रिया ऑनलाइन हो चुकी है, तो इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है। सभी योग्य उम्मीदवार प्राइम मिनिस्टर्स रिसर्च फेलोशिप के लिए इसके अधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। प्रत्येक वर्ष, एमएचआरडी अप्रैल और मई के महीनें में योग्य उम्मीदवारों से अपने विशेष ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से आवेदन आमंत्रित करता है। आप फ़ेलोशिप के लिए कैसे आवेदन कर सकते हैं? सफलतापूर्वक आवेदन करने के लिए किन चरणों का पालन करना चाहिए? नीचे पीएमआरएफ के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया का चरणबद्ध विवरण प्राप्त करें।

चरण 1: अधिकारिक वेबपेज पर जाएँ और आवेदन करने से पहले सावधानी से निर्देशों को पढ़ें।

चरण 2 : “प्लीज क्लिक हियर टू अप्लाई ऑनलाइन” पर क्लिक करें और आगे बढ़ें।

चरण 3 : “क्वालिफिकेशन” के विकल्प पर क्लिक करें और योग्यता से संबंधित खंड 1 को भरें।

चरण 4 : अगले पृष्ठ पर, खंड 2 में, व्यक्तिगत, शैक्षणिक विवरणों को भरें तथा एक नवीनतम तस्वीर और जरूरी दस्तावेजों को अपलोड करें।

चरण 5 : आवेदन प्रपत्र में दिए गए लिंक पर क्लिक करके INR 1500 रूपये एप्लीकेशन फीस के रूप में ऑनलाइन भुगतान करें।

चरण 6 : फीस का सफलतापूर्वक भुगतान करने के बाद, आवेदन शुल्क के रसीद को अपलोड करें और प्रपत्र को सबमिट करें।

Scholarship Registration, Get Scholarship Update

पीएमआरएफ  – जरूरी दस्तावेज

  • पासपोर्ट आकार की तस्वीर
  • अंक पत्र / ग्रेड शीट / ट्रांसक्रिप्ट्स की स्कैन की हुई प्रतियाँ
  • गेट में उत्तीर्ण होने के प्रमाण पत्र की स्कैन की हुई प्रति
  • अब्स्ट्रैक्ट प्रति (अधिकतम 1000 शब्दों में पीडीएफ फाइल में)
  • अधिकतम दो ए4 पृष्ठों में सीवी केवल पीडीएफ फॉर्मेट में सबमिट किया जाना चाहिए। सीवी में केवल शैक्षणिक उपलब्धियों तथा कौशलों जैसे कि रैंक,मेरिट सर्टिफिकेट, इंटर्नशिप, पब्लिकेशन, रिसर्च से संबंधित सॉफ्टवेर स्किल्स आदि का उल्लेख किया जाना चाहिए।

पीएमआरएफ  – चयन की प्रक्रिया

फेलो का चयन एक सिलेक्शन कमिटी द्वारा किया जाता है। इसके गठन नोडल संस्थाओं द्वारा किया जाता है। प्रत्येक विषय के लिए,सिलेक्शन कमिटी इंटरव्यू लेती है और उम्मीदवारों का चुनाव करती है। हालाँकि, डोक्टोरल स्टडी के लिए इंस्टिट्यूट का आवंटन चयनित उम्मीदवारों के पसंदों तथा अकादमिक और अन्य इन्फ्रास्ट्रक्चर की उपलब्धता को ध्यान में रखते हुए किया जाता है।

पीएमआरएफ  – नियम और शर्तें

  • अब्स्ट्रैक्ट को मूल रूप से आवेदक द्वारा अपने शब्दों में लिखा जाना चाहिए और उसे 1000 से अधिक शब्दों में नहीं होना चाहिए। अब्स्ट्रैक्ट के शुरू में आवेदक का नाम लिखा होना चाहिए।
  • प्रोजेक्ट के अब्स्ट्रैक्ट में अध्ययन के क्षेत्र का स्पष्ट रूप से उल्लेख किया जाना चाहिए और चुने गए विषय के लिए रूची और अंतर्दृष्टि को रेखांकित किया जाना चाहिए।
  • प्रोजेक्ट के अब्स्ट्रैक्ट को अध्ययन के लिए एक समस्या का सुझाव देना चाहिए। इसका इस्तेमाल आवेदक के विश्लेषण और शोध के कौशलों का मूल्यांकन करने के लिए किया जाएगा।
  • आवेदक के अंडरग्रेजुएट और पोस्ट-ग्रेजुएट प्रोग्राम के दौरान, रेफरी और आवदेक को एक-दूसरे के साथ स्पष्ट रूप से विचार –विमर्श किया होना चाहिए।
  • एक आवेदक को कम से कम पांच डिसिप्लिन का चयन करना चाहिए, जिसके संगत उसके आवेदन का आकलन किया जाएगा।

पीएमआरएफ  – अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न – क्या पीएमआरएफके लिए कोई आवेदन शुल्क लिया जाता है और यदि हाँ तो विद्यार्थी को आवदेन शुल्क के रूप में कितनी राशि का भुगतान करना पड़ता है?

उत्तर – हाँ, पीएमआरएफके लिए INR 1500 आवेदन शुल्क लिया जाता है। एप्लीकेशन फॉर्म में दिए गए लिंक के माध्यम से शुल्क का भुगतान ऑनलाइन किया जा सकता है। अधिक जानकारी के लिए, “एप्लीकेशन प्रोसेस’ खंड को देखें।

प्रश्न – यदि किसी उम्मीदवार के पास अपना/अपनी संभावित शोध अध्ययन के लिए एक विशेष विचार है, तो क्या सिलेक्शन कमिटी चुने जाने पर उम्मीदवार को इंस्टिट्यूट / डिसिप्लिन आवंटित करते समय इस पर विचार करेगी?

उत्तर – सिलेक्शन कमिटी द्वारा पीएमआरएफस्कीम के अंतर्गत पीएचडी प्रोग्राम के लिए उम्मीदवार की उपयुक्तता का निर्धारण करने के दौरान उम्मीदवार के परियोजना विवरण, विषय के ज्ञान, शोध तथा विश्लेषण के कौशल आदि को ध्यान में रखते हुए अनुशंसा की जाती है। सिलेक्शन और एलोकेशन की प्रक्रिया को अलग-अलग रखा जाता है। यदि उम्मीदवार का चयन एक या अधिक डिसिप्लिन के लिए किया जाता है, तो डिसिप्लिन के लिए एलोकेशन एक अल्गोरिथम के आधार पर किया जाता है। यह अल्गोरिथम उम्मीदवार द्वारा दिए गए इंस्टिट्यूट और डिसिप्लिन के संयोजन के क्रम में मेरिट की स्थिति और पसंद के क्रम पर आधारित होता है।

प्रश्न – यदि एक विद्यार्थी किसी होस्ट इंस्टिट्यूट से पीएचडी स्कॉलर है और उसने किसी एआईसीटीई द्वारा मान्यताप्राप्त इंस्टिट्यूट से ग्रेजुएट करता है तथा डायरेक्ट पीएचडी प्रोग्राम के अधीन आईआईटी को ज्वाइन करता है। ऐसी स्थिति में, उसके सामान मौजूदा स्कॉलर्स जो सभी मानदंडों को पूरा करते है, लेकिन उन्होंने गत वर्ष ज्वाइन किया है, क्या वे पीएमआरएफ प्राप्त करने के योग्य है?

उत्तर – इसके लिए उम्मीदवार को फिर से आवेदन करना होगा। यदि उन्हें पैरेंट इंस्टिट्यूट के अलावे कोई अन्य इंस्टिट्यूट आवंटित किया जाता है तो उन्हें नए इंस्टिट्यूट में फिर से फ्रेश रजिस्ट्रेशन के रूप में ज्वाइन करना होगा।

(Visited 2,068 times, 1 visits today)

You may also like

Leave a Comment